Home NATIONAL ज्येष्ठ माह में की एकादशी को अपरा व अचला नाम से जाना...

ज्येष्ठ माह में की एकादशी को अपरा व अचला नाम से जाना जाता है

33
0
Ekadashi
Ekadashi

नई दिल्ली।  हिंदू धर्म में एकादशी (Ekadashi) का बहुत अधिक महत्व होता है। ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को अपरा या अचला एकादशी के नाम से जाना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार एकादशी (Ekadashi) व्रत रखने से भगवान विष्णु की विशेष कृपा प्राप्त होती है और मृत्यु के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति होती है। हर माह में दो बार एकादशी (Ekadashi) पड़ती है। एक शुक्ल पक्ष में और एक कृष्ण पक्ष में। एकादशी (Ekadashi) व्रत में भगवान विष्णु की विशेष पूजा- अर्चना की जाती है। एकादशी व्रत का पारण अगले दिन किया जाता है। आज 26 मई को अपरा या अचला एकादशी व्रत है और अगले दिन यानी कल 27 मई को व्रत का पारण किया जाएगा। एकादशी व्रत के पारण से पहले व्रती को एकादशी (Ekadashi) व्रत कथा का पाठ जरूर करना चाहिए। ऐसा माना जाता है कि व्रत कथा का पाठ करने से भगवान विष्णु की कृपा से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं और मृत्यु के पश्चात मोक्ष की प्राप्ति होती है और समस्त पापों से मुक्ति मिलती है।

ताइजुल को मैच में आचार संहिता उल्लंघन करने पर लगा 25 प्रतिशत जुर्माना

अपरा एकादशी (Ekadashi) व्रत पारण का समय- व्रत पारण का समय 27 मई को सुबह 05 बजकर 25 मिनट से सुबह 08 बजकर 10 मिनट तक रहेगा। द्वादशी तिथि समाप्त होने का समय सुबह 11 बजकर 47 मिनट तक है।

अपरा एकादशी व्रत कथा……

भगवान विष्णु की कृपा दिलाने वाले व्रत की कथा इस प्रकार है। महीध्वज नामक एक धर्मात्मा राजा था। राजा का छोटा भाई वज्रध्वज बड़े भाई से द्वेष रखता था। एक दिन अवसर पाकर इसने राजा की हत्या कर दी और जंगल में एक पीपल के नीचे गाड़ दिया। अकाल मृत्यु होने के कारण राजा की आत्मा प्रेत बनकर पीपल पर रहने लगी। मार्ग से गुजरने वाले हर व्यक्ति को आत्मा परेशान करती। एक दिन एक ऋषि इस रास्ते से गुजर रहे थे। इन्होंने प्रेत को देखा और अपने तपोबल से उसके प्रेत बनने का कारण जाना।

Previous articleताइजुल को मैच में आचार संहिता उल्लंघन करने पर लगा 25 प्रतिशत जुर्माना
Next articleतेलंगाना कार्यक्रम को पीएम मोदी ने किया संबोधित

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here