Home NATIONAL कपिल सिब्बल समेत इन नेताओं ने छोड़ी कांग्रेस का हांथ

कपिल सिब्बल समेत इन नेताओं ने छोड़ी कांग्रेस का हांथ

32
0
Kapil Sibal,
Kapil Sibal,

नई दिल्ली। कांग्रेस से इस्तीफा देने वाले कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) पार्टी के उन नेताओं में शामिल थे जो कि नेतृत्व में परिवर्तन को लेकर एक नहीं कई बार आवाज उठाई थी। इसमें गुलाम नबी आजाद, मनीष तिवारी समेत कई नेता शामिल थे।

कांग्रेस पार्टी संगठन में सुधार लाने के लिए किए जा रहे कुछ प्रयासों के बावजूद अपने नेताओं के पलायन को रोकने में सफल नहीं हो पाई है। इसका सबसे बड़े उदाहरण सुप्रीम कोर्ट के सीनियर वकील और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) हैं। सिब्बल अब इस पुरानी पार्टी को छोड़ चुके हैं। सिब्बल (Kapil Sibal) के अलावा, संगठन में वरिष्ठ पदों पर बैठे कई अन्य नेताओं ने भी कांग्रेस छोड़ने का विकल्प चुना है। ऐसा इसलिए क्योंकि कई राज्यों में पार्टी अंदरूनी कलह से गुजर रही है।

हाल के महीनों में पार्टी अलाकमान के मुखर आलोचक रहे कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने बुधवार को अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के समर्थन से राज्यसभा के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने लखनऊ में मीडिया से बात करते हुए कहा कि उन्होंने पार्टी की ओर से उदयपुर में आयोजित चिंतन शिविर के कुछ दिन बाद 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था।
कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने कहा, ‘मैं एक कांग्रेस नेता था। लेकिन अब और नहीं। मैंने 16 मई को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था। मैं अखिलेश यादव जी का शुक्रगुजार हूं… 2024 (आम चुनाव) के लिए कई लोग एक साथ आ रहे हैं। हम 2024 से पहले केंद्र सरकार की कमियों को उजागर करेंगे।’

इस साल कांग्रेस छोड़ने वाले नेता

सुनील जाखड़: पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रमुख ने पिछले गुरुवार को दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। पिछले महीने कांग्रेस ने कथित पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए उन्हें सभी पदों से हटा दिया था। जाखड़ ने कहा कि उन्होंने पंजाब में राष्ट्रवाद, भाईचारे और एकता जैसे मुद्दों पर कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया है।

गुजरात में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने भी कांग्रेस से इस्तीफे दे दिया है। पिछले कुछ हफ्तों से हार्दिक पटेल पार्टी के कामों पर सवाल भी उठा रहे थे। अपने इस्तीफे को लेकर हार्दिक पटेल (Hardik Patel) ने कहा कि कांग्रेस के पास लोगों के लिए कोई रोडमैप नहीं है। इसके अलावा पटेल ने कहा कि भारत अयोध्या में राम मंदिर, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाने, जीएसटी के कार्यान्वयन और कांग्रेस जैसे मुद्दों का समाधान चाहता है। हार्दिक पटेल (Hardik Patel) अभी तक किसी पार्टी में नहीं गए हैं, लेकिन कयास लगाया जा रहा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले वह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

रिपुन बोरा: असम के पूर्व पीसीसी प्रमुख ने कांग्रेस पार्टी छोड़ दी और अप्रैल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए। अपने इस्तीफे में, बोरा ने कांग्रेस के भीतर की अंदरूनी कलह की ओर इशारा किया, उन्होंने दावा किया कि पार्टी कार्यकर्ताओं को निराश किया जा रहा है और भाजपा के विकास का मार्ग प्रशस्त किया।

पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार (ashwini kumar) ने फरवरी में कई राज्यों में विधानसभा चुनाव के बीच में कांग्रेस पार्टी छोड़ दी थी। कुमार ने कहा कि उन्होंने फैसला किया है कि वर्तमान परिस्थितियों में और मेरी गरिमा के अनुरूप, मैं पार्टी के बाहर रहकर राष्ट्र की सेवा कर सकता है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह (RPN Singh) ने इस साल जनवरी में उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले बीजेपी का दामन थाम लिया था। यूपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी ने आरपीएन सिंह को स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया था। सूची जारी होने के एक दिन बाद ही उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे कर बीजेपी में शामिल हो गए।

Previous article  यासीन मलिक का कुछ ही देर पर फैसला, फांसी की मांग
Next article  जस्टिन लैंगर ने ऑस्ट्रेलियाई टीम को कई यादगार जीत दिलाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here